Giloy leaves with dew drops

गिलोय, जिसे गुडुची के नाम से भी जाना जाता है, एक प्राचीन जड़ी-बूटी है जिसका सदियों से पारंपरिक भारतीय चिकित्सा में उपयोग किया जाता रहा है। इसके कई स्वास्थ्य लाभों के कारण इसे आयुर्वेद में सबसे मूल्यवान औषधीय पौधों में से एक माना जाता है। 

जड़ी बूटी एक चढ़ाई वाली झाड़ी है जो लंबाई में 20 मीटर तक बढ़ सकती है और पूरे भारत, नेपाल और श्रीलंका में पाई जाती है। गिलोय के पौधे से निकाले गए रस में शक्तिशाली औषधीय गुण पाए जाते हैं जो प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा दे सकते हैं और समग्र स्वास्थ्य में सुधार कर सकते हैं। 

गिलोय के रस निकालने का इतिहास प्राचीन काल से है जब आयुर्वेदिक चिकित्सक पौधे से रस निकालने के लिए विभिन्न तरीकों का इस्तेमाल करते थे। गिलोय का रस निकालने के पारंपरिक तरीकों में से एक में पौधे की ताजी पत्तियों और तनों को कुचलकर रस प्राप्त करने के लिए उन्हें कपड़े से निचोड़ना शामिल है। 

इस पद्धति का उपयोग आज भी भारत के कई हिस्सों में किया जाता है, विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में, जहाँ गिलोय बहुतायत से उगाई जाती है। गिलोय का रस निकालने की मानवीय विधि के अलावा अधिक कुशलता से रस निकालने की आधुनिक तकनीक भी विकसित की गई है। 

ऐसी ही एक विधि में पौधे से रस निकालने के लिए हाइड्रोलिक प्रेस का उपयोग करना शामिल है। यह विधि मैन्युअल विधि की तुलना में तेज़ और अधिक कुशल है और पौधे से बड़ी मात्रा में रस निकालने की अनुमति देती है। आज, गिलोय का रस पाउडर, कैप्सूल और सिरप सहित विभिन्न रूपों में आसानी से उपलब्ध है। 

हालाँकि, बहुत से लोग अभी भी ताजा गिलोय के पत्तों और तनों से रस निकालना पसंद करते हैं क्योंकि वे मानते हैं कि यह अधिक गुणकारी और प्रभावी है।

गिलोय के रस में पोषक तत्व

girl touching her skin

Photo by Pixabay on Pexels

गिलोय का रस पोषक तत्वों से भरपूर होता है जो कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है। गिलोय के रस में उपलब्ध कुछ प्रमुख पोषक तत्व इस प्रकार हैं:

  • एंटीऑक्सीडेंट: गिलोय के रस में उच्च स्तर के एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, जो मुक्त कणों को बेअसर करने और कोशिकाओं को ऑक्सीडेटिव क्षति को रोकने में मदद करते हैं। एंटीऑक्सिडेंट शरीर को इन हानिकारक प्रभावों से बचाने में मदद करते हैं।
  • विटामिन: गिलोय का रस विटामिन सी, विटामिन ए और विटामिन बी सहित, विटामिन का एक अच्छा स्रोत है। विटामिन सी एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है जो प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने और संक्रमण से बचाने में मदद करता है। स्वस्थ दृष्टि, त्वचा और श्लेष्मा झिल्ली को बनाए रखने के लिए विटामिन ए आवश्यक है। बी विटामिन ऊर्जा उत्पादन और स्वस्थ नसों और मस्तिष्क के कार्य को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण हैं।
  • खनिज: गिलोय के रस में कैल्शियम, मैग्नीशियम और जस्ता सहित कई प्रकार के खनिज होते हैं। कैल्शियम मजबूत हड्डियों और दांतों को बनाए रखने के लिए आवश्यक है, जबकि मैग्नीशियम मांसपेशियों और तंत्रिका कार्यों को विनियमित करने में मदद करता है। जस्ता प्रतिरक्षा कार्य, घाव भरने और कोशिका वृद्धि और विभाजन के लिए महत्वपूर्ण है।
  • पॉलीसेकेराइड: गिलोय का रस पॉलीसेकेराइड से भरपूर होता है, जो जटिल शर्करा होते हैं जो प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने और संक्रमण से लड़ने में मदद करते हैं। पॉलीसेकेराइड सफेद रक्त कोशिकाओं के उत्पादन को प्रोत्साहित करने में भी मदद करते हैं, जो बैक्टीरिया और वायरस से लड़ने के लिए आवश्यक हैं।
  • अल्कलॉइड्स: गिलोय के रस में अल्कलॉइड्स होते हैं, जो नाइट्रोजन युक्त यौगिक होते हैं जिनके कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं। अल्कलॉइड्स में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एनाल्जेसिक गुण पाए जाते हैं, जो शरीर में दर्द और सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं।
  • स्टेरॉयड: गिलोय के रस में स्टेरॉयड होते हैं, जो प्राकृतिक यौगिक होते हैं जिनमें एंटी-इंफ्लेमेटरी और इम्यून-बूस्टिंग गुण होते हैं। स्वस्थ प्रतिरक्षा समारोह को बनाए रखने और शरीर में सूजन को कम करने के लिए स्टेरॉयड महत्वपूर्ण हैं।
  • टैनिन: गिलोय का रस टैनिन से भरपूर होता है, जो पौधे के यौगिक होते हैं जिनमें कसैले और सूजन-रोधी गुण होते हैं। टैनिन शरीर में सूजन को कम करने और उपचार को बढ़ावा देने में मदद करता है।
  • ग्लाइकोसाइड्स: गिलोय के रस में ग्लाइकोसाइड्स होते हैं, जो प्राकृतिक यौगिक होते हैं जिनमें कई तरह के स्वास्थ्य लाभ होते हैं। ग्लाइकोसाइड्स को एंटीऑक्सिडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के लिए जाना जाता है, जो कैंसर और हृदय रोग जैसी पुरानी बीमारियों से बचाने में मदद कर सकता है।
  • फ्लेवोनोइड्स: गिलोय का रस फ्लेवोनोइड्स से भरपूर होता है, जो पौधे के यौगिक होते हैं जिनमें एंटीऑक्सिडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। फ्लेवोनॉयड्स ऑक्सीडेटिव तनाव से बचाने और शरीर में सूजन को कम करने में मदद करते हैं।

इन प्रमुख पोषक तत्वों के अलावा, गिलोय के रस में कई अन्य लाभकारी यौगिक भी होते हैं, जिनमें टेरपेनोइड्स, लिग्नन्स और फेनोलिक एसिड शामिल हैं।

गिलोय के जूस के 8 फायदे

गिलोय के रस के लाभों को अब व्यापक रूप से पहचाना जाने लगा है और यह हाल के दिनों में एक लोकप्रिय स्वास्थ्य पूरक बन गया है। गिलोय का सेवन करने के सबसे आम तरीकों में से एक है इसका रस पीना। आइए गिलोय के रस के कई लाभों का पता लगाएं और आपको इसे अपने आहार में शामिल करने पर विचार क्यों करना चाहिए।

1. रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है

Weak immunity guy

Photo by cottonbro studio on Pexels

गिलोय अपने प्रतिरक्षा-बढ़ाने वाले गुणों के लिए जाना जाता है। यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में मदद करता है, जो शरीर को संक्रमण और बीमारियों के प्रति अधिक प्रतिरोधी बनाता है। इसमें अल्कलॉइड और पॉलीसेकेराइड होते हैं, जो संक्रमण और बीमारियों से लड़ने वाली सफेद रक्त कोशिकाओं के उत्पादन को उत्तेजित करने में मदद करते हैं। गिलोय का जूस नियमित रूप से पीने से आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत और स्वस्थ रखने में मदद मिल सकती है।

2. श्वसन संक्रमण का इलाज करता है

गिलोय का रस श्वसन संक्रमण जैसे खांसी, जुकाम और फ्लू के लिए एक प्रभावी उपाय है। यह सूजन को कम करने और सांस लेने की समस्याओं को कम करने में मदद करता है। यह लक्षणों की गंभीरता को कम करने में भी मदद करता है और तेजी से ठीक होने में मदद करता है। गिलोय के रस में शहद मिलाकर पीने से सांस संबंधी संक्रमण से राहत मिलती है।

3. मधुमेह के प्रबंधन में मदद करता है

गिलोय का रस मधुमेह वाले लोगों के लिए फायदेमंद हो सकता है क्योंकि यह रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है। इसमें ऐसे यौगिक होते हैं जो रक्त में ग्लूकोज के स्तर को कम करने में मदद करते हैं। गिलोय का रस नियमित रूप से पीने से मधुमेह को नियंत्रित करने और इससे जुड़ी जटिलताओं के जोखिम को कम करने में मदद मिल सकती है।

4. पाचन में सुधार करता है

गिलोय का रस अपने पाचक गुणों के लिए जाना जाता है। यह पाचन में सुधार, अम्लता को कम करने और कब्ज से राहत दिलाने में मदद करता है। यह पेट में पीएच संतुलन बनाए रखने में भी मदद करता है, जिससे पाचन संबंधी समस्याएं दूर होती हैं। गिलोय का रस नियमित रूप से पीने से आपके पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने और ठीक से काम करने में मदद मिल सकती है।

5. शरीर को डिटॉक्स करता है

गिलोय का रस एक प्राकृतिक डिटॉक्सिफायर है जो शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने में मदद करता है। यह रक्त को शुद्ध करने और लीवर और किडनी से हानिकारक विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है। गिलोय का रस नियमित रूप से पीने से आपके शरीर को हानिकारक विषाक्त पदार्थों से मुक्त रखने और समग्र स्वास्थ्य में सुधार करने में मदद मिल सकती है। 

6. तनाव और चिंता कम करता है

गिलोय के रस में शांत करने वाले गुण होते हैं जो तनाव और चिंता को कम करने में मदद करते हैं। यह मानसिक स्पष्टता में सुधार करने और चिंता और अवसाद की भावनाओं को कम करने में मदद करता है। गिलोय का रस नियमित रूप से पीने से मानसिक स्वास्थ्य में सुधार और तनाव के स्तर को कम करने में मदद मिल सकती है।

office person in stress and tesnion

Photo by Andrea Piacquadio on Pexels

7. त्वचा के स्वास्थ्य में सुधार करता है

त्वचा के स्वास्थ्य में सुधार के लिए गिलोय का रस फायदेमंद होता है। यह रक्त को शुद्ध करके और शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकाल कर मुंहासों और त्वचा की अन्य समस्याओं को कम करने में मदद करता है। यह त्वचा की सूजन को कम करने और त्वचा की बनावट में सुधार करने में भी मदद करता है। गिलोय का रस नियमित रूप से पीने से समग्र त्वचा स्वास्थ्य में सुधार और एक स्पष्ट और उज्ज्वल रंग प्राप्त करने में मदद मिल सकती है। 

8. स्मृति और संज्ञानात्मक कार्य को बढ़ाता है

गिलोय का जूस दिमाग तेज करने वाले गुणों के लिए जाना जाता है। यह मस्तिष्क में रक्त परिसंचरण को बढ़ाकर याददाश्त और संज्ञानात्मक कार्यों में सुधार करने में मदद करता है। यह ब्रेन फॉग को कम करने और मानसिक स्पष्टता में सुधार करने में भी मदद करता है। 

गिलोय का रस नियमित रूप से पीने से मस्तिष्क की कार्यक्षमता में सुधार और समग्र संज्ञानात्मक स्वास्थ्य को बढ़ाने में मदद मिल सकती है।

गिलोय जूस की लोकप्रियता

कोविड-19 महामारी के हालिया प्रकोप के साथ, लोग अपने स्वास्थ्य के प्रति अधिक जागरूक हो गए हैं और अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने के तरीकों की तलाश कर रहे हैं। हाल के वर्षों में, प्राकृतिक और हर्बल उत्पादों की बढ़ती मांग के कारण भारत में गिलोय के रस के व्यावसायिक उत्पादन और बिक्री में वृद्धि हुई है। 

गिलोय के रस की लोकप्रियता का एक मुख्य कारण इसकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाना है। नतीजतन, गिलोय का रस भारत के स्वास्थ्य और कल्याण बाजार में एक मांग वाला उत्पाद बन गया है। गिलोय जूस का व्यावसायिक उत्पादन हाल के वर्षों में काफी बढ़ा है, कई कंपनियों ने गिलोय जूस के अपने ब्रांड लॉन्च किए हैं। 

भारत में गिलोय के रस का बाजार कई करोड़ रुपये का होने का अनुमान है, और आने वाले वर्षों में इसके बढ़ने की उम्मीद है। इसके स्वास्थ्य लाभों के अलावा, गिलोय का रस उत्पादन में भी अपेक्षाकृत आसान है और इसकी लंबी शेल्फ लाइफ है, जिससे यह निर्माताओं के लिए एक आकर्षक उत्पाद बन जाता है। 

भारत में गिलोय के रस का व्यावसायिक लाभ महत्वपूर्ण है, जो स्वास्थ्य लाभ प्रदान करने वाले प्राकृतिक और हर्बल उत्पादों की बढ़ती मांग से प्रेरित है। जैसे-जैसे गिलोय के रस के फायदों के बारे में जागरूकता बढ़ती जा रही है, भविष्य में इस उत्पाद का बाजार और बढ़ने की उम्मीद है। 

भारत में गिलोय के रस की लोकप्रियता का श्रेय इसकी आसान उपलब्धता को भी दिया जा सकता है। यह अधिकांश आयुर्वेदिक दुकानों में पाया जा सकता है और अपेक्षाकृत सस्ती है।

निष्कर्ष

अंत में, गिलोय का रस एक शक्तिशाली स्वास्थ्य पूरक है जो समग्र स्वास्थ्य और कल्याण के लिए कई लाभ प्रदान करता है। रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने से लेकर पाचन में सुधार और संज्ञानात्मक कार्य को बढ़ाने तक, गिलोय का रस सभी उम्र के लोगों के लिए फायदेमंद हो सकता है। 

जूस घर पर बनाना आसान है। तनों को छोटे टुकड़ों में किया जा सकता है और फिर एक महीन पेस्ट में पीस लिया जाता है। रस निकालने के लिए पानी को पेस्ट में मिलाना होगा और एक महीन जाली वाली छलनी से छानना होगा। स्वाद को बेहतर बनाने के लिए रस में शहद या नींबू का रस मिला सकते हैं। 

अधिकतम लाभ के लिए गिलोय के रस का सेवन सुबह खाली पेट करना चाहिए। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि गिलोय के रस का सेवन कम मात्रा में और स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर के मार्गदर्शन में किया जाना चाहिए। 

यदि आप अपने आहार में गिलोय के रस को शामिल करने पर विचार कर रहे हैं, तो उचित खुराक निर्धारित करने के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श करें और सुनिश्चित करें कि यह आपके लिए सुरक्षित है।साथ ही, झंडूकेयरवेबसाइट से गिलोय का जूस खरीदना न भूलें। वे सर्वोत्तम गुणवत्ता वाले हर्बल उत्पाद बेचते हैं।


Avatar

Zandu Ayurvedic Team

Zandu Ayurvedic Team has a panel of over 10 BAMS (Ayurvedacharya), boasting a collective experience of over 50 years. With a deep-rooted understanding of Ayurveda, they are committed to sharing their expertise & knowledge through our blogs.
We use all kinds of Ayurvedic references in our content. Please use the contact form for any editorial queries.

Leave a comment

All comments are moderated before being published