A picture of chyawanprash with selected ingredients

च्यवनप्राश जिसे आयुर्वेदिक दवाओं का राजा भी कहा जाता है एक प्राचीन आयुर्वेदिक उपचार है जो हमारे शरीर के लिए अनेक लाभप्रद है।च्यवनप्राश को हमेशा खाली पेट खाना चाहिए सुबह के समय।इसके सेवन से हमारे शरीर को पोषक तत्त्व प्राप्त होते है और हमारी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ावा मिलता है।

यह एक प्राकृतिक औषधि है जो लगभग 45 से 80 अलग अलग जड़ी बूटियों फलो और स्वादिष्ट रसायनों का मिश्रण है। झंडू च्यवनप्राश एक प्रसिद्ध आयुर्वेदिक ब्रांड है जो च्यवनप्राश खाने के फायदे इन हिंदी में प्रचलित करता है.

झंडू च्यवनप्राश के 6 फायदे

च्यवनप्राश एक प्राकृतिक औषधि होने के कारन इसके सेवन का सही समय और मात्रा का पालन करना महत्वपूर्ण है।इससे शरीर को अधिक फायदा मिलता है और अन्य समयों पर सेवन करने से उपयुक्त लाभ प्राप्त नहीं होता है।च्यवनप्राश खाने से क्या फायदा होता है यहाँ जान लें: 

1. पौष्टिक तत्त्व का ख़ज़ाना

nutrition food

Source: Unsplash

च्यवनप्राश में मौजूद पौष्टिक तत्त्व हमारे शरीर को जरुरी पोषक आहार प्रदान करते है।यह विटामिन C, विटामिन A, कैल्शियम फॉस्फोरस और अनेक अन्य पोषक तत्वों का अच्छा स्त्रोत है।इससे हमें जरुरी पोषक तत्त्व प्राप्त होते है जो हमारे शरीर की सही विकास और स्वस्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है.

च्यवनप्राश के सेवन से हमारे शरीर को जरुरी पोषक तत्त्व प्राप्त होते है जो हमारे शरीर की सही विकास और स्वस्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है।इसके पौष्टिक तत्त्व हमारी इम्युनिटी को भी बढ़ाते है और रोगो से लड़ने की क्षमता को प्रभावित करते है।

2. इम्युनिटी को बढ़ावा देता है

च्यवनप्राश में मौजूद औषधीय जड़ी बूटियां और स्वादिष्ट रसायन हमारे प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते है।इसमें मौजूद अमला गिलोय हरिद्रा और कुछ अन्य जड़ी बूटियां शरीर के रोगानुसार व्यक्तिगत प्रतिरोधक प्रणाली को मजबूत बनती है और रोगो से लड़ने की क्षमता को बढाती है।

च्यवनप्राश के सेवन से हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और हमारे शरीर को रोगो से लड़ने की क्षमता प्रदान करता है।इससे हमारे शरीर को सही तरह से लड़ाई करने और बिमारियों से बचने की शक्ति मिलती है।

3. विगोर और वाईत्तालीटी

च्यवनप्राश में मौजूद शक्ति वर्धक रसायन शारीरिक सौंदर्य तेज दिमाग तीव्र गतिविधि और स्वस्थ आरोग्य में सुधार लाने में मदद करते है।यह शरीर की ऊर्जा और वाईत्तालीटी को बढ़ाते है और हमारे शरीर को सामान्य रोगो से लड़ने की क्षमता प्रदान करते है।

च्यवनप्राश के सेवन से हमारे शरीर की ऊर्जा और वाईत्तालीटी बढ़ती है जो हमारे शरीर को सामान्य रोगो से लड़ने की क्षमता प्रदान करता है।इससे हमारा शारीरिक और मानसिक स्वस्थ्य सुधर जाता है और हमारे शरीर में ताजगी और ताकत लाता हैं| यहां, हमारी शुगर फ्री च्यवनप्राश रेंज देखें

4. रक्त प्रवाह और दिल स्वस्थ्य

च्यवनप्राश के सेवन से रक्त प्रवाह में सुधार होता है और दिल के स्वस्थ्य को भी लाभ मिलता है।इसमें मौजूद औषधीय जड़ी बूटियां रक्त को शुद्ध करते है और दिल की धमनियों को मजबूत बनाते है।

यह दिल से सम्बंधित रोगो से लड़ने में सहायक होता है।च्यवनप्राश के सेवन से हमारे रक्त प्रवाह में सुधर होता है और दिल की धमनियां मजबूत होती है।इससे दिल से सम्बंधित रोगो से लड़ने में सहायक होता है।

5. अच्छी पाचनशक्ति

digestion problem

Source: Image by Alicia Harper on Pixabay

खाने से पहले च्यवनप्राश का सेवन करना हमें अच्छी पाचनशक्ति का आनंद उठाने में मदद करता है।यह पाचन तंत्र को शक्तिशाली करता है और भोजन की अछि तरह से पाचन करने में सहायक होता है।च्यवनप्राश खाने से पहले इसका सेवन करना हमारे पाचन तंत्र को मज़बूत करता है और भोजन की अच्छी तरह से पाचन करने में मदद करता है।

Also read:

 

6. तनाव से लड़ने में मददगार

च्यवनप्राश में मौजूद जड़ी बूटियां हमारे शरीर को तनाव से लड़ने की क्षमता देती है।यह स्ट्रेस और तनाव से बचने में मददगार होता है और शरीर की स्टैमिना और मेन्टल स्वस्थ्य को बढ़ता है।च्यवनप्राश में मौजूद जड़ी बूटियां हमारे शरीर को तनाव से लड़ने की क्षमता देती है।इससे हमारे शरीर की स्टैमिना और मेन्टल स्वस्थ्य बढ़ाता है। 

खाली पेट च्यवनप्राश खाने के फ़ायदे

खाली पेट च्यवनप्राश खाने से शरीर पोषक तत्वों को जल्दी अब्सॉर्ब करता है और उनका सही इस्तेमाल कर सकता है। इससे पोषक तत्वों का खज़ाना शरीर में समावेश होता है और उनकी शक्ति शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करती है। 

खाली पेट च्यवनप्राश खाने से प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और हमारे शरीर को रोगो से लड़ने की शक्ति मिलती है।

च्यवनप्राश के अन्य फायदे 

च्यवनप्राश के सेवन से शारीरिक और मानसिक शक्ति बढ़ती है।यह शरीर को ताजगी ताकत और ओजस प्रदान करता है।इसमें मौजूद औषधीय जड़ी बूटियां हमारे शरीर को पोषक तत्त्व प्रदान करते है और हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते है।

च्यवनप्राश के फायदे से हमारे शरीर को अनेक फायदे मिलते है जैसे की सामान्य रोगो से लड़ने की शक्ति रोगो से बचने की क्षमता ऊर्जा का बढ़ना मेन्टल स्वस्थ्य तजा दिमाग और तेज गतिविधि।

च्यवनप्राश कब खाना चाहिए? सही समय और मात्रा

च्यवनप्राश एक प्राकृतिक औषधि होने के कारन इसके सेवन का सही समय और मात्रा का पालन करना महत्वपूर्ण है।इससे शरीर को अधिक फायदा मिलता है और अन्य समयों पर सेवन करने से उपयुक्त लाभ प्राप्त नहीं होता है।यहाँ हम जानेंगे की च्यवनप्राश कब खाना चाहिए और मात्रा क्या होनी चाहिए:

1. सुबह के समय खाली पेट

clock

Source: Image by Aphiwat chuangchoem on Pexels

च्यवनप्राश का सबसे अच्छा समय सुबह के समय खाली पेट होता है।सुबह उठकर पहले एक चम्मच च्यवनप्राश खाने से पौष्टिक तत्त्व जल्दी शरीर में समावेश हो जाते है और उनका सही इस्तेमाल हो सकता है।इससे आपके शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और आप रोगो से बचने की शक्ति मिलती है।च्यवनप्राश के सेवन से आपके शरीर को दिन भर की थकन दूर होती है और आपकी शरीर की ऊर्जा और विटालित्य बढ़ती है।

Also read:

 

  • Shilajit के फायदे
  • अश्वगंधा के फायदे
  • Zandu रस के फायदे
  •  

    2. दोपहर का समय

    अगर आप सुबह खाली पेट च्यवनप्राश नहीं खा पाते है तो आप दोपहर के समय भी इसका सेवन कर सकते है।दोपहर के भोजन से पहले च्यवनप्राश खाने से आपके पाचन तंत्र को उत्तेजित करता है और भोजन को अच्छी तरह से पाचन करने में मदद करता है।इससे आपके शरीर को भोजन से अच्छी अप्सराओ का आनंद उठाने में मदद मिलती है।

    3. रात के समय

    च्यवनप्राश को रात के समय खाने से भी फायदा होता है लेकिन इसे खाने का समय रात का खाना खाने से काम से काम 1-2  घंटे पहले होना चाहिए।रात के समय च्यवनप्राश खाने से आपके शरीर को ताजगी और ताकत मिलती है और आपको नींद भी अछि आती है। इससे आपके तनाव और स्ट्रेस लेवल काम होते है और आप को रात को अच्छी नींद आती समय।

    4. च्यवनप्राश की मात्रा

    च्यवनप्राश की सही मात्रा का पालन करना भी महत्वपूर्ण है।आपको च्यवनप्राश की मात्रा को अपने आयु और स्वस्थ के अनुकूल तय करना चाहिए।गेनेराल्ल्य एक चम्मच (१५ ग्राम) च्यवनप्राश को सुबह खाली पेट या भोजन से कम से कम 30 मिनट्स पहले लेना चाहिए।यदि आप इसका सेवन दोपहर या रात के समय करते है तो भी एक चम्मच मात्रा का पालन करे.

    इसके सेवन से आपके शरीर को अनेक रोगो से लड़ने की क्षमता मिलती है, आपका रक्त प्रवाह सुधरता है, दिल की धमनियां मजबूत होती है और आपको तनाव और स्ट्रेस से लड़ने की शक्ति मिलती है।

    सावधानियां 

    • च्यवनप्राश के सेवन के समय अपने व्यंजन पर ध्यान दें।ज्यादा मसालेदार और मीठा खाने से च्यवनप्राश के लाभ काम हो सकते है.
    • च्यवनप्राश में मौजूद किसी भी तत्त्व से एलर्जी या साइड इफेक्ट्स के लक्षण हो तोह इसका सेवन बंद कर दें और चिकित्सक से संपर्क करें.
    • च्यवनप्राश के सेवन के साथ साथ स्वस्थ आहार और व्यायाम को भी अपनाएं। यह एक स्वस्थ जीवन शैली के साथ मिलकर ही अच्छे परिणाम देता है.

    निष्कर्ष एवं सारांश

    झंडू च्यवनप्राश खाली पेट खाने के अनेक फायदे है।इसके पौष्टिक तत्त्व हमारे शरीर को जरुरी पोषक आहार प्रदान करते है और हमारी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ावा देते है।

    च्यवनप्राश के सेवन से इम्युनिटी बढ़ती है विगोर और वाईत्तालीटी आती है रक्त प्रवाह और दिल स्वस्थ्य में सुधर होता है|

    च्यवनप्राश को सुबह के समय खाली पेट लेना सबसे अच्छा है लेकिन दोपहर या रात के समय भी सेवन किया जा सकता है।मात्रा के लिए गेनेराल्ल्य एक चम्मच (15 ग्राम) च्यवनप्राश लेना चाहिए।ध्यान रखे की मसालेदार और मीठा खाने से च्यवनप्राश के लाभ काम हो सकते है।

    अगर किसी भी तत्त्व से एलर्जी या साइड इफेक्ट्स के लक्षण दिखे तो च्यवनप्राश का सेवन बंद कर दें और चिकित्सक से संपर्क करें।

    इसके साथ साथ स्वस्थ आहार और व्यायाम को भी अपना न महत्वपूर्ण है।च्यवनप्राश एक प्राकृतिक औषधि है लेकिन हर व्यक्ति का शरीर अलग होता है इसलिए च्यवनप्राश का उपयोग करने से पहले एक चिकित्सक या आयुर्वेदिक वैद से सलाह लेना उत्तम रहेगा।


    Avatar

    Zandu Ayurvedic Team

    Zandu Ayurvedic Team has a panel of over 10 BAMS (Ayurvedacharya), boasting a collective experience of over 50 years. With a deep-rooted understanding of Ayurveda, they are committed to sharing their expertise & knowledge through our blogs.
    We use all kinds of Ayurvedic references in our content. Please use the contact form for any editorial queries.

    Leave a comment

    All comments are moderated before being published